होमकविता

मोड़

किधर जाता है जीवन को छोड़ तेरी इस राह के हर किनारे पर है मोड़, मुड़ जा नहीं तो खो जायेगा फिर अपनी करनी पर पछतायेगा, बड़ा आसान है खो जाना मस्ती के जीवन में रम जाना, जीवन ये नहीं प्यारे राह अगर कठिन ना हो, तब इस जीवन का क्या करना है मस्त...

प्रेम

तेरी आँखो में मैंने पहचाना है खुद को अजनबी नहीं तुम ये माना है तुमको,सम्पूर्ण जीवन समर्पित तन मन सब है तुम्हारा तुम पर जग क्या सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड मैं हारा,अब सोच रहा क्या दू जो अमर हो जाऊ, प्रेम पथ पर प्रिये नई गाथा लिख जाऊ,मेरा प्रेम अमर रहा है ये...

लोकप्रिय लेख

दिमाग में दो घोड़े

मनुष्य के दिमाग में दो घोड़े दौडते है, एक Negative और दूसरा Positive जिसको ज्यादा खुराक दी जाये - वही जीतता है …नारियल का जन्म - हिंदी कहानीप्राचीन काल में सत्यव्रत नाम के एक राजा राज करते थे। वह प्रतिदिन पूजा-पाठ किया करते थे।...

बच्चों के – मजाकिया चुटकुले

टीचर - पप्पू तुम स्कूल किसलिए आते हो?पप्पू - विद्या के लिए।टीचर - तो क्लास में सो क्यों रहे हो?पप्पू - सर आज विद्या नहीं आई इसलिए...।विज्ञान के टीचर ने छात्र से पूछा…..एलोवीरा क्या होता है ?संता सिंह : जब एक पंजाबी व्हिस्की का...
किधर जाता है जीवन को छोड़ तेरी इस राह के हर किनारे पर है मोड़, मुड़ जा नहीं तो खो जायेगा फिर अपनी करनी पर पछतायेगा, बड़ा आसान है खो जाना मस्ती के जीवन में रम जाना, जीवन ये नहीं प्यारे राह अगर कठिन ना हो, तब इस जीवन का क्या करना है मस्त रह कर, आखिर में रोना है, कमाल रहा है इस जीवन का ये मौका देती है सबको, मुड़ जा इसी मोड़ से नहीं तो फिर पछतायेगा, इस क्रूर दुनिया में प्यारे अकेला ही रह जायेगा…- श्रीकांत शर्मासपने देखने वाला आदमी - हिंदी कहानीबहुत समय पहले की बात हैं, एक व्यक्ति था जो बेहद आलसी और साथ ही साथ गरीब भी था। वह कुछ भी मेहनत नहीं करना चाहता था। लेकिन अमीर बनने का सपना देखता रहता था। वह भिक्षा मांगकर अपना गुजारा करता था।एक सुबह उसे भिक्षा के रूप में दूध से भरा एक घड़ा मिला। वह बहुत प्रसन्न हुआ और दूध का घड़ा लेकर घर चला गया।उसने दूध को उबाला, उसमें से कुछ दूध पिया और बचा हुआ दूध, एक बर्तन में डाल दिया। दूध को दही में बदलने के लिए उसने बर्तन में थोड़ा सा दही डाला। इसके बाद वह सोने के लिए लेट गया।वह सोते समय दही के बर्तन के बारे में सोचने लगा।उसने सोचा; “सुबह तक दूध दही बन जायेगा। मैं दही को मथकर उससे मक्खन बना लूंगा। फिर मक्खन को गर्म करके उससे घी बना लूंगा। फिर घी को बाजार में जाकर उसे बेच दूँगा और कुछ पैसे कमा लूंगा। उस पैसे से...
error: Content is protected !!